Wednesday, December 7, 2022

सर्वे में हार के अनुमान से डरी भाजपा? अंधेरी पूर्व से उम्मीदवार हटाने पर छिड़ी चर्चा, गुजरात कनेक्शन भी वजह

अंधेरी पूर्व सीट पर उपचुनाव से भाजपा ने अपना उम्मीदवार वापस हटा लिया है। इसके पीछे दो बड़ी वजहें बताई जा रही हैं। एक तो पार्टी का आंतरिक सर्वे है और दूसरा गुजरात कनेक्शन।

मुंबई की जिस विधानसभा सीट पर उपचुनाव चर्चा का विषय बना हुआ है वहां भाजपा ने अपने उम्मीदवार का नाम वापस लेने का फैसला कर लिया है। एक दिन पहले ही एमएनएस चीफ राज ठाकरे और एनसीपी चीफ ने भाजपा से इसके लिए अपील भी की थी। यह सीट यहां से शिवसेना विधायक रहे रमेश लटके के निधन के बाद खाली हो गई थी। वहीं शिवसेना के दो धड़ों में बंटने के बाद अंधेरी पूर्व की सीट एक तरह से दोनों गुटों के लिए युद्ध का मैदान बन गई थी। 

क्या है गुजराती कनेक्शन?
भाजपा के आंतरिक सूत्रों का कहना है कि पार्टी के सर्वे के मुताबिक यहां लोगों की संवेदना उद्धव ठाकरे गुट की उम्मीदवर ऋतुजा लटके के साथ थी। इसकी मुख्य वजह यही है कि वह यहां से पूर्व विधायक रमेश लटके की विधवा हैं। इसके अलावा नामांकन वापस लेने के पीछे गुजराती कनेक्शन भी हो सकता है। भाजपा के प्रत्याशी को लेकर सोशल मीडिया पर काफी चर्चा चल रही थी कि भाजपा ‘मराठा अभिमान’ के साथ समझौता करके एक गुजराती को यहां से टिकट दे र ही है। अंत में पार्टी को अपनी उम्मीदवारी वापस लेने का ही फैसला करना पड़ गया।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया, स्थानीय लोगों में ऋतुजा के प्रति काफी सहानुभूति है। एक तो उनके पति का निधन हो गया था दूसरे बीएमसी के नाटक की वजह से उन्हें और भी लोकप्रियता और सहानुभूति हासिल हो गई।  वह बीएमसी में क्लर्क के पद पर थीं लेकिन उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया जा रहा था। कोर्ट के दखल के बाद ही उनका इस्तीफा स्वीकार किया गया और वह अपना नामांकन दाखिल कर सकीं। वहीं भाजपा नेता का यह भी कहना है कि चुनाव आयोग द्वारा पार्टी का नाम और निशान दिए जाने के बाद उद्धव ठाकरे के पक्ष में कुछ  वर्गो में ध्रुवीकरण भी हुआ है। चुनाव आयोग ने उद्धव ठाकरे के गुट को मशाल और एकनाथ शिंदे के गुट को ढाल-तलवार का निशान दिया है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles