Sunday, December 4, 2022

दिल्ली में डरा रहा डेंगू का डंक, अक्टूबर में 900 से अधिक मरीज मिले; कुल मामलों की संख्या 1,876 हुई

बता दें कि, दिल्ली में डेंगू के तेजी से बढ़ते मामलों के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने इस माह की शुरुआत में राजधानी के सभी अस्पतालों से 10-15 फीसदी बेड डेंगू के मरीजों के लिए आरक्षित रखने को कहा था।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में अक्टूबर में डेंगू के 900 से अधिक मामले सामने आए हैं, जिसके बाद इस साल इस बीमारी के मामलों की कुल संख्या 1,876 हो गई है। इसके साथ ही, दिल्ली में इस साल मलेरिया के 194 और चिकनगुनिया के 38 मामले दर्ज किए गए हैं। दिल्ली नगर निगम की तरफ से मंगलवार को जारी रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।

रिपोर्ट के अनुसार, 12 अक्टूबर तक डेंगू के मामलों की संख्या 1,572 थी। अगले सप्ताह 300 से अधिक नए मामले दर्ज किए गए, जिसके साथ ही इस साल 19 अक्टूबर तक दिल्ली में डेंगू के मामलों की कुल संख्या बढ़कर 1,876 हो गई। सितंबर में डेंगू के 693 मामले दर्ज किए गए थे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि यह 2017 के बाद से -1 जनवरी से 19 अक्टूबर की अवधि के दौरान- दर्ज किए गए डेंगू के मामलों की सबसे अधिक संख्या है। उस साल इस अवधि के दौरान डेंगू के 3,272 मामले सामने आए थे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल अब तक डेंगू से किसी की मौत नहीं हुई है, जबकि 2021 में इस बीमारी से 23 लोगों की मृत्यु हो गई थी।

अस्पतालों में मरीजों के लिए 10-15 फीसदी बेड रिजर्व

बता दें कि, दिल्ली में डेंगू के बढ़ते मामलों में अब डराना शुरू कर दिया है। हालात के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने इस माह की शुरुआत में राजधानी के सभी अस्पतालों से 10-15 फीसदी बेड डेंगू के मरीजों के लिए आरक्षित रखने को कहा था।

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया था कि कोविड-19 के मरीजों की कम संख्या को देखते हुए दिल्ली सरकार ने अस्पतालों से डेंगू के रोगियों को भर्ती करने के लिए खाली बेड्स का उपयोग करने के लिए कहा है। सिसोदिया ने कहा कि डेंगू के मामलों में बढ़ोतरी के बीच दिल्ली के अस्पतालों से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि बेड्स की कमी के चलते किसी भी मरीज को भर्ती करने से मना नहीं किया जाए।

बयान में कहा गया है कि सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी के सभी अस्पतालों को अलर्ट पर रखा है और स्थिति पर नजर रख रही है। अस्पतालों को निर्देश दिया गया है कि वे अपने बेड का 10-15 प्रतिशत मच्छर जनित रोग के मरीजों के लिए आरक्षित करें और यह सुनिश्चित करें कि कोई भी मरीज बेड की कमी के कारण प्रवेश वंचित न रहे। सिसोदिया ने कहा कि वर्तमान मौसम की स्थिति वेक्टर जनित बीमारियों के संचरण के लिए अनुकूल है। उन्होंने कहा कि पिछले दो हफ्तों में डेंगू के मामलों में तेजी से वृद्धि हुई है, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि अस्पतालों में मरीजों को इलाज मुहैया कराने के लिए सभी इंतजाम किए गए हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles