Tuesday, December 6, 2022

बाप दो नंबरी, बेटा दस नंबरी; फतेहपुर में भाजपा उम्मीदवार के खिलाफ लगे पोस्टर

विधानसभा क्षेत्र फतेहपुर में भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ एक बार फिर से पोस्टर वार शुरू हो गया है। मंगलवार रात किसी अज्ञात ने भाजपा प्रत्याशी राकेश पठानिया और उनके बेटे भवानी पठानिया के खिलाफ पोस्टर लगाए।

विधानसभा क्षेत्र फतेहपुर में भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ एक बार फिर से पोस्टर वार शुरू हो गया है। मंगलवार रात किसी अज्ञात ने भाजपा प्रत्याशी राकेश पठानिया और उनके बेटे भवानी पठानिया के खिलाफ आपत्तिजनक नारे लिखे पोस्टर चिपकाए हैं। इसके साथ ही क्षेत्र में एक बार फिर से सियासी सरगर्मियां तेज हो गई हैं।

मंगलवार रात लगाई पोस्टरों का लिखा है, “फतेहपुर को बचाना है, बाप बेटे को फतेहपुर से भगाना है।” इसके अलावा पोस्ट को लिखा है, “बाप दो नंबरी, बेटा दस नंबरी”। मंगलवार सुबह से ही फतेहपुर में यह पोस्टर चर्चा का विषय बने हुए हैं। वहीं, फतेहपुर भाजपा मंडल के पधार के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने इस पोस्टरबाजी के खिलाफ अपना विरोध जताया है। भाजपा कार्यकर्ताओं का कहना है कि सियासत के क्षेत्र में इस तरह की नीच हरकतों को कोई स्थान नहीं होना चाहिए। दोषियों को आगामी चुनावों में जनता जरूर अब मजा चखाएगी।

फतेहपुर में इस तरह की आपत्तिजनक पोस्टरबाजी का यह कोई पहला मामला नहीं है। टिकट घोषित होने से पहले भाजपा के संभावित प्रत्याशी कृपाल परमार के खिलाफ भी इसी तरह के पोस्टर छपे थे। इसके अलावा पिछले विधानसभा उपचुनाव में भी इस तरह के भाजपा प्रत्याशी विरोधी आपत्तिजनक पोस्टर छपे थे।.

जिला कांगड़ा के ‌विधानसभा क्षेत्र फतेहपुर में तीनों दलों के दिग्गज नेताओं के चुनावी मैदान में होने से मुकाबला दिलचस्प होने वाला है। मौजूदा विधायक के सामने जहां अपने स्वर्गीय पिता और पूर्व मंत्री सुजान सिंह पठानिया की विरासत को बचाने की चुनौती है। वहीं भाजपा के समक्ष इस बार भी गुटबाजी से निपटने की कड़ी परीक्षा रहने वाली है। इसके अलावा आम आदमी पार्टी के बड़े चेहरा राजन सुशांत के चुनावी मैदान में आने से इस बार दिलचस्प त्रिकोणीय मुकाबला होने की उम्मीद है।

वहीं, भाजपा ने इस बार फिर से फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र से अपना चेहरा बदलकर चौंका दिया है। इस बार फतेहपुर के साथ लगती नूरपुर विधानसभा सीट के मौजूदा विधायक एवं जयराम सरकार में मंत्री रहे राकेश पठानिया को फतेहपुर को फतेह करने के लिए भेजा गया है। ऐसे में भाजपा के लिए अपने मंत्री की सीट बचाने की भी चुनौती रहेगी। हालांकि भाजपा उपाध्यक्ष कृपाल परमार ने निर्दलीय नामांकन दर्ज कर राकेश पठानिया की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। इसके अलावा कई अन्य गुटों में बंटी पार्टी को साथ लेकर चलने की भी चुनौती पार्टी की परीक्षा लेगी।

 2017 में भाजपा ने फतेहपुर विधानसभा के किसी चेहरे की बजाय संगठन में पैठ रखने बाले कृपाल परमार को अपना प्रत्याशी बनाया। कांग्रेस प्रत्याशी सुजान सिंह पठानिया ने हैट्रिक मारते हुए सातवीं बार फतेहपुर से जीत दर्ज की। सुजान सिंह पठानिया के निधन के बाद 2021 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार भवानी सिंह पठानिया ने 24449 वोट लेकर भाजपा प्रत्याशी बलदेव ठाकुर को 5789 वोटों के अंतर से हराया था।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles