Thursday, December 1, 2022

एनआईए ने वाराणसी से आईएस के आतंकी को दबोचा, आईईडी बनाने की देता था ट्रेनिंग

वाराणसी में बुधवार को एनआईए ने छापेमारी कर बड़ी सफलता पाई है। आईएसआईएस के लिए काम करने वाले 24 वर्षीय बासित कलाम सिद्दीकी को गिरफ्तार किया है। उसके घर से आतंकी साहित्य व अन्य सामान मिले हैं।

वाराणसी से बुधवार की शाम एनआईए को बड़ी सफलता हाथ लगी है। आईएस के लिए काम करने वाले एक आतंकी को गिरफ्तार किया गया है। लालपुर थाना क्षेत्र के मकबूल आलम रोड स्थित कच्ची बाग इलाके से 24 वर्षीय बासित कलाम सिद्दीकी को पकड़ा गया है। उसकी घर की तलाशी में आईएसआईएस से संपर्क के सबूतों के साथ आतंकी साहित्य, आईईडी बनाने के हाथ से लिखे नोट्स के अलावा लैपटॉप, मोबाइल और पेन ड्राइव में आपत्तिजनक सामग्री बरामद की है। आतंकी को गिरफ्तार करने के साथ ही एनआईए ने उसके पिता और भाई से भी पूछताछ की।

भारत में आईएसआईएस के ‘वॉयस ऑफ हिंद’ मॉड्यूल पर 29 जून 2021 को एनआईए ने मामला दर्ज किया था। इस मामले में पहले भी उमर निसार उर्फ कासिम खुरासानी सहित छह की गिरफ्तारी हो चुकी है। कासिम को ‘इस्लामी कश्मीर का अमीर’ उपनाम दिया गया था। मामले में छानबीन के दौरान नई जानकारियां मिलने पर बुधवार को एनआईए ने दिल्ली और बनारस में छापेमारी की।

मकबूल आलम रोड स्थित कच्ची बाग में सुबह पहुंची टीम ने अंडा कारोबारी अब्दुल कलाम सिद्दीकी के घर छापा मारा और उसके बेटे बासित कलाम सिद्दीकी को गिरफ्तार कर लिया। लगभग छह घंटे तक घर की तलाशी ली गई और अहम सबूत जुटाए। एनआईए के पास बासित के आईएस के सक्रिय संपर्क में रहने की पुख्ता जानकारी है। 

पूछताछ के बाद उसके पिता और भाई को छोड़ दिया गया। जबकि लालपुर थाने में आरोपी से पूछताछ जारी थी। बासित उत्तर प्रदेश में आईएस के मॉड्यूल की तरह काम कर रहा था। आईएस की ऑनलाइन मैगजीन ‘वॉयस ऑफ खुरासान’ के जरिए युवाओं को भड़काने के साथ ही वह टेलीग्राम चैनल के जरिए आईईडी बनाने का प्रशिक्षण दे रहा था। उसके घर की तलाशी में एनआईए को आतंकी साहित्य के अलावा विस्फोटक तैयार करने संबंधी कई दस्तावेज भी मिले हैं।

‘हिजरत’ की कर रहा था तैयारी

वाराणसी। एनआईए के जांचकर्ताओं को मिले सबूतों के अनुसार आईएस से जुड़ने के लिए ईरान के खुरासान जाने की तैयारी कर रहा था। इसका अर्थ है ‘किसी संकट से उबरने के लिए घर या देश छोड़कर जाना’। इंजीनियरिंग की तैयारी कर रहा बासित नियमित तौर पर अफगानिस्तान में बैठे आकाओं के संपर्क में था।

उनके इशारे पर ही वह ब्लैक पाउडर और अन्य विस्फोटक पदार्थों को जुटाकर आईईडी बनाने की तैयारी कर रहा था। एनआईए को शक है कि बासित ने कई अन्य युवाओं को भी भ्रमित कर आईएस के साथ जोड़ा है। इस मामले में छानबीन जारी है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles